Home / Herbal / नागफनी (थूहर) गठिया सूजन शीध्र दूर करे Nagphani for Joint Pain Relief in Hindi

नागफनी (थूहर) गठिया सूजन शीध्र दूर करे Nagphani for Joint Pain Relief in Hindi

nagphani-for joint pain-relief-in-hindi

NAGPHANI BENEFITS IN HINDI, NAGFANI KE FAYDE, NAGPHANI PLANT USES IN HINDI
Nagphani in Hindi  / नागफनी नदी के किनारे, बंजर जगह, सड़क के किनारे पाये जाने वाला कांटेदार फर्न पौधा है। दिखने में नागफनी के पत्ते मोटे चैडे कांटेदार होते हैं। नागफली गठिया जोड़ों के दर्द / Joint Pain Relief, खांसी से लेकर पित्त विकारों को मिटाने में सहायक है।

Nagphani Plant / नागफनी को कई नामें से जाना जाता है। सप्तकली, नागाथाली, थूहर, नांगफना, चोरहातलो, पपासकली, नागाजेमुंडा, कांटाफन और अंग्रजी में Prickly Pear, Slipper Thorn, Opuntia Dilleni, Nagphani  आदि नामों से जाना जाता है।

नागफनी गठिया सूजन दर्द निवारण / Inflammatory, Arthritis Pain Remedies / Nagphani for Joint Pain Relief in Hindi

नागफनी के मोटे कांटेदार पत्तों से कांटे अलग कर लें। कांटों को खड्डे मिट्टी में गाढा दें, क्योंकि कांटे तेज नुकीले होते हैं। नांगफली से कांटें निकालने के बाद हल्की आंच में उबाल लें। पानी पूरी तरह से सूख जाने के बाद ठंड़ा हल्का होने दें। फिर उसमें जैतून तेल, कच्ची हल्दी, लहसुन कलियां मिलाकर फिर हल्की आंच में पकायें। ठंड़ हल्का गुनगुना होने पर Arthritis / Gathiya गठिया दर्द सूजन वाली जगह पर पेस्ट कर मालिश करें। सूजन वाले अंगों पर पट्टी के साथ मल कर बांध दें। यह नागफनी औषधी तेजी से गठिया दर्द ठीक करने में सहायक है।
इस तरह से नागफनी गठिया सूजन दर्द / Inflammatory Arthritis से तुरन्त आराम निजात दिलाने में सक्षम है।

About About Writer

मेरा नाम भारत सिंह है। मैं स्वास्थ्यज्ञान बेवसाइट का लेखक हूँ। मेरी विशेष रूचि आर्युवेदिक पद्धति, स्वास्थ्य, सौन्दर्य, जीवन शैली और दैनिक दिनचर्य जैसे विषयों का विश्लेषण एवं समीक्षा कर ज्ञानवर्धक लेख लिखने में है। मेरा मुख्य उदेश्य स्वास्थ्यज्ञान बेवसाइट के माध्यम से पाठकों का ज्ञान जागृत करना है।

Check Also

बहुउपयोगी लोणी पौधा Health Benefits of Purslane in Hindi

Health Benefits of Purslane / लोणी पौधा भारत में लगभग सभी राज्यों में पाई जाती …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *