गौतम बुद्धा के अनमोल विचार Gautam Buddha Inspirational Quotes in Hindi

Gautam-Buddha-Inspirational-Hindi-Quotesगौतम बुद्ध के अनमोल प्रेरणादायक विचार

“इंसान का दिमाग ही उसका सबसे बड़ा शत्रु और मित्र है।”
– गौतम बुद्धा

“बुराईयों से दूर रहने का एक ही तरीका है कि अच्छे विचारों को अपने जीवन में अपनायें।”
– गौतम बुद्धा

“अपने मन को जीतना, हज़ारो युद्धों को जीतने के बराबर है, इसमें हमेशा तुम्हारी ही जीत है जो तुमसे कोई नहीं छीन सकता।”
– गौतम बुद्धा

“विचारो में बहुत ताकत है, तुम जैसा सोचते हो वैसे ही बन जाते हो।”
– गौतम बुद्धा

“आप चाहे कितने भी पवित्र शब्दों को पढ़ या बोल लें, लेकिन जब तक उन पर अमल नहीं करते उसका कोई फायदा नहीं है।”
– गौतम बुद्धा

“अकसर कोई भी गलत चीज़ गलत सोच से ही आती है।”
– गौतम बुद्धा

“हर इंसान अपने भविष्य का खुद रचियता है।”
– गौतम बुद्धा

“समुद्र बूंद-बूंद से भरता है। उसी तरह ज्ञान भी धीरे-धीरे बढ़ता है।”
– गौतम बुद्धा

“न भूत की सोचो, न भविष्य, की चिंता करो, अपने दिमाग को वर्त्तमान मे एकाग्र करो।”
-गौतम बुद्धा

“अपना कार्य खुद करो, दुसरो पर निर्भर मत रहिए।”
– गौतम बुद्धा

“आपको आपके गुस्से के लिए दण्ड नहीं दिया जाएगा, आपको आपके गुस्से द्वारा दण्ड दिया जाएगा।”
– गौतम बुद्धा

“जो तुम सोचते हो वह तुम बन जाते हो। जैसे एक मोमबत्ती बिना आग के नहीं जल सकती, उसी तरह इंसान भी बिना आध्यात्मिक ज्ञान के नहीं रह सकता।”
– गौतम बुद्धा

“जीभ एक तेज चाकू की तरह बिना खून निकाले ही मार देती है।”
– गौतम बुद्धा

“उसने मेरा अपमान किया, उसने मेरे साथ गलत किया, जो व्यक्ति इन्ही बातो को करते रहते हैं, वे कभी जीवन में चैन से नहीं रह सकते। जिन लोगो ने अपने को इन बातो से ऊपर उठा लिया है, वही आराम से सुखमय जीवन जी सकते हैं।”
– गौतम बुद्धा

“जो करना है, उसे आज ही कर लो क्या पता कल ज़िंदगी रहे न रहे।”
– गौतम बुद्धा

“अपनी बुराई करने वाले को अपने पास रखो, और उससे सीखो तुम एक अदुतीय खजाना बन जाओगे।”
– गौतम बुद्धा

“मुर्ख ज्ञानियों से भी नहीं सीख पाते और ज्ञानी मुर्ख से भी ज्ञान सीख लेते हैं।”
– गौतम बुद्धा

“जिन तरह तूफ़ान एक बड़े पत्थर को नहीं हिला पाता, उसी तरह शांत व्यक्ति को मान – अपमान नहीं हिला पाते।”
– गौतम बुद्धा

“वर्तमान में जियो।”
– गौतम बुद्धा

“हमें अपने शब्दो का चुनाव बहुत सोच समझ कर करना चाहिए, शब्द दोस्त भी बना देते है और दुश्मन भी।”
– गौतम बुद्धा

“देते चलो चाहे तुम्हरे पास बहुत कम ही क्यों न हो।”
– गौतम बुद्धा

“मन शांति देने वाला एक शब्द एक हज़ार खोखले झूठें शब्दो से बेहतर है।”
– गौतम बुद्धा

“अपने शरीर को स्वस्थ्य रखना तुम्हरी जिम्मेवारी है, क्योंकि स्वस्थ शरीर में ही अच्छा दिमाग रहता है।”
– गौतम बुद्धा

“शांति हमेशा अंदर से आती है इसे बाहर मत ढूंढो।”
– गौतम बुद्धा

“कभी मत देखो क्या हो गया है, में हमेशा देखता हूं कि क्या करना है अभी।”
– गौतम बुद्धा

“जो अच्छे से जिया है, उसे मौत से भी डर नहीं लगता।”
– गौतम बुद्धा

“तीन चीजों से लंबे समय तक नहीं छिप सकते, सूर्य, चंद्र और सत्य।”
– गौतम बुद्धा

“जैसे लापरवाही की वजह से नरम घास भी आपके हाथ को घायल कर सकती है, उसी तरह धर्म के प्रति करी गयी लापरवाही आपको नर्क के द्वार पर पंहुचा सकती है।”
– गौतम बुद्धा

“खुश रहना ही एक रास्ता है ख़ुशी पाने का।”
– गौतम बुद्धा

“अगर शरीर स्वास्थ्य नहीं है तो हम अपने दिमाग को भी मजबूत नहीं बना पाएंगे।”
– गौतम बुद्धा

“हज़ार लड़ाई जीतने से अच्छा है अपने आप को जीतना।”
– गौतम बुद्धा

“अपने बराबर या अपने से ज्यादा समझदार लोगो के साथ सफर कीजिये, अपने से काम समझदार लोगो के साथ सफर करने से अच्छा है कि आप अकेले की सफर करें।”
– गौतम बुद्धा

“यदि आप किसी और के मार्ग में प्रकाशित करते हो, तो अपने आप आपका रास्ता प्रकाशमय हो जायेगा।”
– गौतम बुद्धा

“जिस तरह एक मोमबत्ती से अनेक मोमबत्ती जलाई जा सकती हैं, इससे मोमबत्ती का जीवन काम नहीं होता, उसी तरह ख़ुशी बाटने से कम नहीं होती।”
– गौतम बुद्धा

“हर वह चीज़ जहर है जो आवश्यकता से अधिक है, फिर चाहे वह धन हो, भूख हो या फिर ताकत।”
– गौतम बुद्धा

“क्रोध एक ऐसी आग है जो दूसरे का नुक्सान करे या न करे खुद का नुकसान ज़रूर करती है।”
– गौतम बुद्धा

“मैं यह कभी नहीं देखता की क्या किया जा चुका है, मैं हमेशा देखता हूँ कि क्या किया”
– गौतम बुद्धा

“यदि आप सच में अपने आप से प्रेम करते हैं, तो आप किसी और को भी कोई दुःख नहीं पंहुचा सकता।”
– गौतम बुद्धा

“हर पल जीवन का आनंद लो।”
– गौतम बुद्धा

“जीवन वह नहीं है जो हमें मिला है, जीवन वह है जो हम बनाते हैं।”
– गौतम बुद्धा

“कब तक दुसरो को अपने जीवन के दिए दोष देते रहोगे, दूसरों को दोष देना छोड़ दें।”
– गौतम बुद्धा

“अच्छे और बुरे अनुभव कुछ न कुछ जरूर सिखाते हैं।”
– गौतम बुद्धा

“जो दूसरों से ईर्ष्या करते हैं, उनको कभी शांति नहीं मिल सकती।”
– गौतम बुद्धा

“शक, दो अच्छे दोस्तों को और किसी भी अच्छे रिश्ते को बरबाद कर देता है।”
– गौतम बुद्धा

“संतोष सबसे बड़ा धन है, स्वास्थ्य सबसे बड़ा उपहार है और बफादारी सबसे बड़ा सम्बन्ध है।”
– गौतम बुद्धा

“जीवन की सबसे बड़ी बिफलता है, हमारा असत्यबादी होना।”
– गौतम बुद्धा

“सभी गलत कार्य मन से ही उपजाते हैं, अगर मन परिवर्तित हो जाय तो क्या गलत कार्य रह सकता है।”
– गौतम बुद्धा

“आपके पास जो कुछ भी है उसे दुसरो को बड़ा चढ़ा कर मत बताइये, न ही दुसरो से ईर्ष्या कीजिए। बुरे दोस्तों से जंगली जानवरो से ज़्यादा सावधान रहना चाहिए, क्योंकि जंगली जानवर केवल आपके शरीर को नुक्सान पंहुचा सकते हैं, लेकिन बुरे दोस्त आपके दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।”
– गौतम बुद्धा

“गुजरा हुआ वक़्त कभी भी वापस नहीं आता।”
– गौतम बुद्धा

“लक्ष्य तक पहुँचने से ज्यादा महत्वपूर्ण, यात्रा अच्छे से करना होता है। तभी लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं।”
– गौतम बुद्धा

“चतुराई से जीने वाले लोगों को मौत से भी डरने की जरुरत नहीं है।”
– गौतम बुद्धा

“जो नाराजगी युक्त विचारों से मुक्त रहते हैं वही शांति पाते हैं।”
– गौतम बुद्धा

“बुराई से बुराई कभी खत्म नहीं हो सकती। बुराई को मात्र प्रेम द्वारा ही समाप्त किया जा सकता है।”
– गौतम बुद्धा

“निष्क्रिय होना मृत्यु का एक छोटा रास्ता है, मेहनती होना अच्छे जीवन का रास्ता है, मूर्ख लोग निष्क्रिय होते हैं, और बुद्धिमान लोग मेहनती।”
– गौतम बुद्धा

“अपना रास्ता स्वंय बनाएं, हम अकेले पैदा होते हैं और अकेले मृत्यु को प्राप्त होते हैं, इसलिए हमारे अलावा कोई और हमारी किस्मत का फैसला नहीं कर सकता।”
– गौतम बुद्धा

“हर इंसान की प्रतिस्पर्धा खुद से होनी चाहिए, न की दुसरो से।”
– गौतम बुद्धा

Gautam Buddha Inspirational Quotes / Buddha Quotes

Gautam-Buddha-Inspirational-Hindi-Quotes

The secret of health for both mind and body is not to mourn for the past, nor to worry about the future, but to live the present moment wisely and earnestly.
– Gautam Buddha

“What we think, we become.”
– Gautam Buddha

“Just as a candle cannot burn without fire, men cannot live without a spiritual life.”
– Gautam Buddha

“Thousands of candles can be lighted from a single candle, and the life of the candle will not be shortened. Happiness never decreases by being shared.”
– Gautam Buddha

The secret of health for both mind and body is not to mourn for the past, nor to worry about the future, but to live the present moment wisely and earnestly.
– Gautam Buddha

“Those who are free of resentful thoughts surely find peace.”
– Gautam Buddha

“You, yourself, as much as anybody in the entire universe, deserve your love and affection.”
– Gautam Buddha

“Three things cannot be long hidden: the sun, the moon, and the truth.”
– Gautam Buddha

“Health is the greatest gift, contentment the greatest wealth, faithfulness the best relationship.”
– Gautam Buddha

“He who loves 50 people has 50 woes; he who loves no one has no woes.”
– Gautam Buddha

“Whatever words we utter should be chosen with care for people will hear them and be influenced by them for good or ill.”
– Gautam Buddha

“It is better to travel well than to arrive.”
– Gautam Buddha

“Hatred does not cease by hatred, but only by love; this is the eternal rule.”
– Gautam Buddha

“The foot feels the foot when it feels the ground.”
– Gautam Buddha

“The foolish man conceives the idea of ‘self.’ The wise man sees there is no ground on which to build the idea of ‘self;’ thus, he has a right conception of the world and well concludes that all compounds amassed by sorrow will be dissolved again, but the truth will remain.”
– Gautam Buddha

“A jug fills drop by drop.”
– Gautam Buddha

“To be idle is a short road to death and to be diligent is a way of life; foolish people are idle, wise people are diligent.”
– Gautam Buddha

“The virtues, like the Muses, are always seen in groups. A good principle was never found solitary in any breast.”
– Gautam Buddha

“I never see what has been done; I only see what remains to be done.”
– Gautam Buddha

“With fools, there is no companionship. Rather than to live with men who are selfish, vain, quarrelsome, and obstinate, let a man walk alone.”
– Gautam Buddha

“To live a pure unselfish life, one must count nothing as one’s own in the midst of abundance.”
– Gautam Buddha

“Better than worshipping gods is obedience to the laws of righteousness.”
– Gautam Buddha

“Do not dwell in the past, do not dream of the future, concentrate the mind on the present moment.”
– Gautam Buddha

“To enjoy good health, to bring true happiness to one’s family, to bring peace to all, one must first discipline and control one’s own mind. If a man can control his mind he can find the way to Enlightenment, and all wisdom and virtue will naturally come to him.”
– Gautam Buddha

“We are shaped by our thoughts; we become what we think. When the mind is pure, joy follows like a shadow that never leaves.”
– Gautam Buddha

“You will not be punished for your anger, you will be punished by your anger.”
– Gautam Buddha

“Do not overrate what you have received, nor envy others. He who envies others does not obtain peace of mind.”
– Gautam Buddha

“No one saves us but ourselves. No one can and no one may. We ourselves must walk the path.”
– Gautam Buddha

“Even death is not to be feared by one who has lived wisely.”
– Gautam Buddha

“However many holy words you read, however many you speak, what good will they do you if you do not act on upon them?.”
– Gautam Buddha

“Better than a thousand hollow words, is one word that brings peace.”
– Gautam Buddha

“Without health life is not life; it is only a state of langour and suffering – an image of death.”
– Gautam Buddha

“You can search throughout the entire universe for someone who is more deserving of your love and affection than you are yourself, and that person is not to be found anywhere. You yourself, as much as anybody in the entire universe deserve your love and affection.”
– Gautam Buddha

“I am not the first Buddha who came upon Earth, nor shall I be the last. In due time, another Buddha will arise in the world – a Holy One, a supremely enlightened One, endowed with wisdom in conduct, auspicious, knowing the universe, an incomparable leader of men, a master of angels and mortals.”
– Gautam Buddha

“The only real failure in life is not to be true to the best one knows.”
– Gautam Buddha

“There are only two mistakes one can make along the road to truth; not going all the way, and not starting.”
– Gautam Buddha

“Just as treasures are uncovered from the earth, so virtue appears from good deeds, and wisdom appears from a pure and peaceful mind. To walk safely through the maze of human life, one needs the light of wisdom and the guidance of virtue.”
– Gautam Buddha

“Work out your own salvation. Do not depend on others.”
– Gautam Buddha

“The mind is everything. What you think you become.”
– Gautam Buddha

“Peace comes from within. Do not seek it without.”
– Gautam Buddha

“To keep the body in good health is a duty… otherwise we shall not be able to keep our mind strong and clear.”
– Gautam Buddha

“It is better to conquer yourself than to win a thousand battles. Then the victory is yours. It cannot be taken from you, not by angels or by demons, heaven or hell.”
– Gautam Buddha

“It is a man’s own mind, not his enemy or foe, that lures him to evil ways.”
– Gautam Buddha

“Unity can only be manifested by the Binary. Unity itself and the idea of Unity are already two.”
– Gautam Buddha

“Holding on to anger is like grasping a hot coal with the intent of throwing it at someone else; you are the one who gets burned.”
– Gautam Buddha

“He who walks in the eightfold noble path with unswerving determination is sure to reach Nirvana.”
– Gautam Buddha

“Chaos is inherent in all compounded things. Strive on with diligence.”
– Gautam Buddha

“All wrong-doing arises because of mind. If mind is transformed can wrong-doing remain?.”
– Gautam Buddha

“In a controversy the instant we feel anger we have already ceased striving for the truth, and have begun striving for ourselves.”
– Gautam Buddha

“We are what we think. All that we are arises with our thoughts. With our thoughts, we make the world.”
– Gautam Buddha

“I was born into the world as the king of truth for the salvation of the world.”
– Gautam Buddha

“I do not believe in a fate that falls on men however they act; but I do believe in a fate that falls on them unless they act.”
– Gautam Buddha

“Virtue is persecuted more by the wicked than it is loved by the good.”
– Gautam Buddha

“The wise ones fashioned speech with their thought, sifting it as grain is sifted through a sieve.”
– Gautam Buddha

“When one has the feeling of dislike for evil, when one feels tranquil, one finds pleasure in listening to good teachings; when one has these feelings and appreciates them, one is free of fear.”
– Gautam Buddha

Gautam Buddha Inspirational Quotes in Hindi, Buddha Quotes Hindi, Hindi Quotes of Gautam Buddha, Gautam Buddha quotes in English, Gautam Buddha English Quotes, Hindi Buddha Quotes, Inspirational Quotes Buddha in Hindi, Gautam Buddh Quotes Hindi,