मुलेठी के औषधीय गुण Mulethi (Yashtimadhu) Home Remedies in Hindi

मुलेठी के फायदे व चमत्कारिक औषधीय प्रयोग मुलेठी सेवन के फायदे और नुकसान / MULETHI BENEFITS HINDI ME, MULETHI KE FAYDE AUR NUKSAAN

मुलेठी के फायदे व चमत्कारिक औषधीय प्रयोग : Yashtimadhu in Hindi, Mulethi Benefits / मुलेठी स्वाद में मीठा और स्वादिष्ट जड़ है, मुलेठी को ज्येष्ठीमधु, मुलहठी, Liquorice, Yashtimadhu नाम से भी पुकारा जाता है। मुलेठी में ग्लिसराइजिंक एसिड, कैल्शियम प्रचुर मात्रा में विद्यमान है। मुलेठी का केवल इस्तेमाल अकसर पान बनाने में करते हैं, परन्तु मुलेठी बहु गुणकारी स्वास्थयवर्धक औषधि है, जोकि शरीर को रोगमुक्त स्वस्थ रखने में सक्षम है। Yashtimadhu / मुलेठी सांस विकार, पाचन विकार, कण्ठ विकार, दिल विकार, त्वचा विकार, अल्सर विकार, रक्त विकार, पित्त विकार, घाव जलन समस्याऐं ठीक करने में सक्षम है। मुलेठी एक तरह से प्राकृतिक औषधि रूप है। 


मुलेठी / मुलहटी का उपयोग तरह के टेबलेट, सिरप, कैप्सूल, पाउडर और हेल्दी पेय पदार्थ तैयार करने में किया जाता है।

मुलेठी के स्वास्थ्य लाभ / Mulethi Benefitsmulethi (yashtimadhu) home remedies in hindi, Mulethi-Liquorice- Yashtimadhu-Hindi
खांसी कफ में मुलेठी रामबाण दवा / Mulethi for Cough
लम्बे समय तक खांसी कफ होने पर मुलेठी और काली मिर्च को चबाकर रस चूसने से हर तरह की खांसी और कफ की समस्या दूर हो जाती है। खांसी कफ के लिए मुलेठी अचूक दवा है।

कंठ खराश दूर करे / Home Remedies For Sore Throat
गले की खराश समस्या में मुलहेठी काढ़ा में काली मिर्च पाउडर मिलाकर पीना और मुलेठी चबाकर रस चूसना फायदेमंद है।

रक्त साफ करे मुलेठी / Yashtimadhu, Blood Purifier
मुलेठी रक्त संचार सुचारू करने में सक्षम है, जिन लोगों को खून की खराबी से पिम्पलस आदि हो जाते हैं, वे लगातार मुलेठी का सेवन करने से रक्त त्वचा सम्बन्धित विकारों से छुटकारा पाते हैं।

रक्त बढ़ाये मुलेठी / Increase Hemoglobin
शरीर में रक्त की कमी होने पर रोज मुलेठी काढा शहद के साथ घोलकर सेवन करना फायदेमंद है। मुलेठी काढ़ा शहद मिश्रण रक्त की कमी दूर करने में सक्षम है।


फोड़े फुंसिंयो में मुलेठी / Home Remedies for Boils
फोड़े फुंसिंयो होने पर मुलेठी का बारीक पीसकर ग्रसित जगह के चारों ओर लगाने से फोड़े फुंसिंयो ठीक हो जाती है।

हृदय रोग में मुलेठी / Mulethi Home Remedies for Heart Disease
मुलेठी पाउडर को रोज गाय के घी और शहद के साथ बदल बदल कर खाने से हृदय रोगी को आराम मिलता है। मुलेठी, शहद, गाय के घी में सैकड़ों औषधीय गुण छुपे हुये हैं जिनका मिश्रण स्वास्थय के लिए लाभकारी है।

जले कटे में मुलेठी - चंदन लेप / Remedies for Burns
शरीर का अंग जलने व कटने पर घाव के चारो तरफ तुरन्त मुलेठी चंदन लेप लगाने से घाव ठीक हो जाता है। दर्द सूजन नहीं होता। घाव जगह को ठंड़क मिलती है।

मुंह के छालों के लिए मुलेठी / Mouth Ulcer Cure
मुह में छाले होने पर मुलेठी चबाकर रस चूसने से छाले व गले की समस्या से छुटकारा मिलता है।

पाचन, गैस कब्ज के लिए मुलेठी / Mulethi, good for Stomach
पेट की गैस समस्या हो या कब्ज हर तरह से मुलेठी का सेवन पेट, पाचन, आंतों की समस्या विकारों को ठीक करने में सक्षम है।

मुलेठी कैंसर रोकथाम / Licorice, Cancer Cure
मुलेठी का सेवन सप्ताह में एक बार महीने में 4-5 बार करने से कैंसर, अल्सर, टीबी, अस्थमा जैसे बीमारियों का खतरा नहीं रहता।

मासिक धर्म अनिमियता
मासिक धर्म में गड़बड़ होने पर रोज सुबह खाली पेट मुलेठी पाउडर शहद के साथ सेवन करने से समस्या से निजात दिलाने में सहायक है।

मुलेठी सेवन में सावधानियां / Mulethi Side Effects in Hindi
1.  किड़नी से सम्बन्धित समस्याओं में मुलहठी सेवन मना है।
2.  उच्च रक्तचाप के समय मुलहठी अकेला सेवन से बचें। मुलहठी शहद के साथ सेवन करें।
3.  छोटे बच्चों को मुलहठी नहीं देनी चाहिए।
4.  गर्भावस्था के दौरान मुलहठी सेवन मना है।
5.  डायबिटीज मरीज मुलहठी चिकित्सक की सलाह के बाद ही लें।
6.  मुलहठी चिकित्सक और एक्सपर्ट की सलाह से लें।
7.  मुलहठी सीमित मात्रा में 3-4 ग्राम ही सेवन करें।
8.  मुलहठी एक अचूक आर्युवेदिक औषधि रूप है। ज्यादा सेवन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

मुलेठी बहु उपयोगी स्वास्थ्यवर्धक प्राकृतिक औषधि है। मुलेठी को किसी न किसी तरह से अपने दैनिक दिनचर्या में सेवन करें। संक्रामण, वायरल, होने वाले रोगों के छुटकारा दिलाने में सहायक है।
Previous
Next Post »