बार बार पेशाब आने की समस्या का निदान Ayurvedic Home Remedies TreatingFrequent Urination in Hindi

बार बार पेशाब आने की समस्या का निदान / AYURVEDIC HOME, REMEDIES FOR FREQUENT URINATION / AYURVEDIC HOME REMEDIES TREATING FREQUENT URINATION IN HINDI
Frequent Urination Treatment / अकसर देखा गया है, बच्चे, बड़ों में बार बार पेशाब आने की समस्या आती है। बार बार पेशाब आने के पीछे कई कारण होते हैं। पेशाब को ज्यादा देर तक नहीं रोकना चाहिए। पेशाब देर तक रोकने से किड़नी पर अतिरक्ति भार पड़ता है। जिससे किड़नी समस्या पैदा होने का भय बना रहता है। Kidney Diseases किड़नी बीमारियां समस्याऐं पेशाब सिस्टम से जुड़ी रहती है। केवल बच्चों में बार बार पेशाब आना ठंड या पेट में कीड़ों का होना पाया जाता है।

A. बार बार पेशाब आने के कारण /Urinate Frequently Causes

Ayurvedic-home-remedies-treating-frequent-urination-in-hindi, Frequent-Urination-Treatment-in-Hindi

1. कारण : छोटे बच्चों को ठंड लगने से, मीठा खाने से पेट में कीड़े होने पर या फिर विस्तर पर पेशाब करने की आदत से बच्चों को रात को विस्तर में साये पेशाब करते हैं।

निदान : छोटे बच्चों को रात सोने से पहले पेशाब करवायें। सुबह और रात सोने से पहले 2 छुआरे, डेटस् खाने को दें। छुआरे खाने से बच्चों की विस्तर में पेशाब करने की आदत दूर हो जाती है और छुआरे खाने से पेट के कीड़े निकालने में भी सहायक है। डेटस् - छुआरे बच्चों की बार बार पेशाब करने की समस्या का सक्षम निदान है।

2. कारण : मुख्यतय मधुमेह में शुगर बढ़ने पर urinate frequently / बार बार पेशाब आना संभव है।
निदान : डायबिटीज में बार बार पेशाब आने पर जामुन रस, पाउडर को करेला रस में मिलाकर पीने से डायबिटीज में यूरिन की समस्या से आराम मिलता है।

3. कारण : सर्दीयों में ज्यादा ठंड से पेशाब का बार बार / urinate frequently आना संभव है।

निदान : सर्दीयों में बार बार पेशाब आने से बचने के लिए इलाईची, अदरक वाली Natural Herbal चाय काॅफी पीने से समस्या से छुटकारा देती है। हरी इलाईची और अदरक वाली चाय सभी को पीनी चाहिए। इलाईची अदरक और चायपत्ती एक रिच एन्टीआक्सीडेन्ट है, जोकि सक्रामण, वायरल से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है।


B. बार बार पेशाब आने पर कुछ खास निदान / Frequent Urination Home Remedies

निदान :
1. कुल्थी कुलथ को रात को गर्म पानी में भिगों कर रखें। सुबह कुल्थी और गुड़ मिलाकर सेवन करने से पेशाब समस्या दूर हो जाती है। पालीफिनांल तत्व कुल्थ में प्रचुर मात्रा में होता है।

2. एक चम्मच शहद और 5-6 तुलसी के हरे पत्तों का रस रोज सुबह गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से पेशाब समस्या से निजात मिलता है।

3. अजवाइन और सेंधा नमक सेवन करने से सर्दीयों में बार बार पेशाब की समस्या ठीक हो जाती है।

4. जायफल को औखली में कूटकर सुखाकर पाउडर बना लें, बार बार पेशाब आने पर जायफल पाउडर एक कप दूध में रोज सेवन करने से पेशाब समस्या से निजात मिलता है।

5.  रोज पके केले दूध के साथ सेवन करने से बार बार पेशाब की समस्या से निदान मिलता है।



C. किड़नी से मूत्र रोग जुड़ी समस्या के लिए / Kidney Pain and Frequent Urination
बार बार पेशाब और किड़नी की समस्या अकसर डायबिटीज या फूड पाईजन, मूत्र रोग / Urinary Tract Infection के कारण पाई जाती है।

निदान : किड़नी से जुड़ी पेशाब समस्या में दालचीनी - कलौंजी पाउडर लगातार सेवन करने से जल्दी समस्या से छुटाकरा मिलता है। दालचीनी और कलौंजी किड़नी से जुड़ी यूरिन समस्याओं को ठीक करने में सक्षम है। दालचीनी कलौंजी कई बीमारियों को ठीक करने में सक्षम पाई गई है।

दालचीनी कलौंजी पाउडर बनाने की विधि
  • 20 ग्राम कलौंजी / Kalonji Seeds
  • 30 ग्राम दालचीनी / Cinnamon
दालचीनी और कलौंजी दानों को औखली में बारीक कूट पीसकर पाउडर तैयार कर कांच की शीशी में रख लें। रोज सुबह, दोपहर, शाम चुटकी भर पाउडर चाय या खाने के साथ मिलाकर सेवन करने से किड़नी पेशाब से जुड़ी समस्याओं से निदान मिलता है। दालचीनी मिठी और कलौंजी स्वाद में कड़वी होती है, सेवन करते समय चुटकी भर ही पाउडर सेवन करें, क्योंकि पाउडर स्वाद ज्यादा कड़वा लगता है। किड़नी पेशाब से जुड़ी नेफ्रोटिक सिन्डरोम समस्याओं के लिए अचूक आर्युवेदिक औषधि है।

1.  मेथी हरी पत्तियों का साग और मेथी दाने पीसकर सेवन करने बार बार पेशाब की समस्या से छुटकारा मिलता है।

2.  पालक को उबाल कर पानी फेंक दे, उबली पालक में बेकिंग सोड़ा मिलाकर सेवन करने से बार बार पेशाब की समस्या से तुरन्त निदान मिलता है।

3.  दहीं में अनार मिलाकर खाने से मूत्र रोग ठीक हो जाता है।

4.  तिल के बीज और अजवाइन को पीसकर सेवन करने से मूत्र पेशाब की समस्या दूर होती है।

Previous
Next Post »