कमर दर्द कारण-निवारण Back Pain Tips in Hindi

back-pain-tips-in-hindi
कमर दर्द कारण-निवारण / BACK PAIN TIPS
Back Pain Tips in Hindi / कमर दर्द - Back Pain की शिकायत आजकल अकसर बड़ों के साथ-साथ युवा वर्ग में भी पाई जा रही है। पीठ के नीचे हिस्से Spinal Cord / रीढ़ की हड्डी के साथ जकड़न, तेज दर्द होने से व्यक्ति अशाय लाचार महसूस करता है। अकसर कमर दर्द के पीछे़ व्यक्ति का दैनिक जीवन शैली, क्रिया-कलाप उठना बैठना और शरीरिक कमोजोरी एवं कैल्शियम कमी की वजह मुख्य रूप से कमर दर्द के कारण मानें जातें हैं। ज्यादात्तर कमर दर्द होने पर मेरूदण्ड-रीढ़ हड्डी का अंग्रेजी के एस, सी अक्षर की आकृति में अचानक हल्का मुड़ना माना जाता है। जोकि गलत जीवन शैली-क्रियाकलापों उठने बैठने की वजह है। कमर दर्द होने के कारण एवं ठीक करने के सटीक तरीके विस्तार से इस प्रकार से है।


कमर दर्द होने के मुख्यतयः खास कारण निम्न प्रकार से हैं।
  • नसों मांसपेशियों में खिचाव एवं तनाव होने पर / Muscle Strain
  • बैठने के गलत तरीका /Sitting Positions
  • उठने का गलत तरीका /Sit Ups
  • अचानक भारी वजन उठाना /Weight Lifting
  • वजन उठाते वक्त मेरूदण्ड, रीढ़ की हड्डी का अचानक मुड़ जाना /Spine Bending
  • देर तक कुर्सी में बैठना / Sitting on the Chair
  • गलत तरीके से सोना / Wrong Sleeping Positions
  • सोते समय आरामदायक शयन विस्तर का न होना / Sleeping Bed
  • व्यायाम योगा नहीं करना / Exercises
  • वाहन सीट पर पीठ के बल झुक कर बैठना / Sitting Position
  • यात्रा के दौरान असुविधा अवस्था में बैठना / Inconvenience Sitting
  • टाईट फैशनेबल कपड़े, बेल्ट पहनना / Fashionable Clothes
  • कम्प्यूटर पर काम करने वक्त सही तरह से नहीं बैठना / Sitting Jobs
  • लैपटॉप का इस्तेमाल तिरछा या लेट कर करना / Imbalancing
  • पेट के बल मोबाईल, टेबलेट चलाना / Uncomfortable
  • लेट कर टेलीविजन देखना / during watching TV
  • गलत तरीके से बैठकर अखबार, पत्रिका, किताब पड़ना / Reading Methods
  • ऊंचे शूल एड़ी वाले सैंडल, जूते पहना भी कमर दर्द होने का कारण है / Wearing High Heels
  • शरीर के वजन-नियत्रंण-बेलेन्स अचानक बिगड़ना / Weight Imbalance
  • लम्बे वक्त तक शरीर रोग ग्रस्त रहना भी कमर दर्द का कारण होता है / Long Dresses
  • इस तरह से कमर दर्द होने के पीछे कई कारण होते हैं। जिसको ध्यान में रखे तो कमर दर्द होने पर आसानी से बचा जा सकता है।

कमर दर्द से तुरन्त राहत एवं तरीके / Back Pain Relief Tips in Hindi


कैल्श्यिम युक्त आहार / Calcium Rich Diet
शरीरिक कमजोरी से होने वाले कमर दर्द में कैल्श्यिम युक्त आहार लें। हरी पत्तेदार सब्जियां, ताजे फल, फलों का रस, नट्स, सलाद खायें। अकसर शरीरिक कमजोर महिलाओं में कमर दर्द की शिकायत ज्यादा रहती है।

लटक कर परों को झटकाना / Hanging
लम्बे समय से कमर दर्द को शीघ्र ठीक करने के लिए पार्क में बने झूले, पाईपों को मजबूत से पकड़ कर 2-3 मिनट तक लटकें। लटकनें के दौरान पैरों को नीचे की ओर झटका दें। यह प्रक्रिया रोज सुबह शाम 5-10 मिनट करें।

पीठ, मेरूदण्ड-रीढ़ की हड्डी बेलेन्स नियंत्रण / Spinal Stenosis Treatment
बैठते वक्त रीढ़ की हड्डी जिसे मेरूदण्ड से भी जाना जाता है। कमर को टेढ़ा, तिरछा, मुड़ाकर इत्यादि आकृति में उठे बैंठे नहीं। हमेशा पीठ सीधे कर ही बैठे, उठे, चले।

व्यायाम और योगा / Exercise and Yoga
कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए मकरासन, हलासन, भुजंगासन, मयुरासन, चक्रासन अच्छा माध्यम है। योगा आसन जानकार एक्सपर्ट की रेखदेख सलाह में करें।

साइकिल और तैराकी / Cycling, Swimming
कमर दर्द होने पर सुबह शाम साइकिल चलाने और स्वीमिंग करने से कमर दर्द से जल्दी छुटकारा मिलता है। साइकिलिंग और स्वीमिंग करना शरीर की मांसपेशियों के खिचाव को दुरूस्त करने का अच्छा माध्यम है।


मसाज / Massage
कमर दर्द होने पर पेट के बल लेटकर 10-15 मिनट मसाज से मेरूदण्ड जकड़न, नसों मांसपेशियों खिचाव एवं तनाव को आसानी से ठीक किया जा सकता है।

फैशन एवं कपड़ा पहनाव / Fashion
आधुनिक फैशन में कपड़ों का तंग टाईट कपड़े, ऊंची एडियों वाले सैंडल जूते पहनना भी कमर दर्द का एक कारण माना गया है। कमर दर्द के दौरान टाईट कपड़े सैंडल जूते ना पहले, आरामदायक ठीलें कपड़े सैंडल जूते पहने। हमेशा आरामदायक कपड़ें सैंडल जूते पहने। ज्यादा फैशनेबल ना बनें।

बैठने की मुद्रा / Sitting Posture
कम्प्यूटर, लैपटॉप इस्तेमाल करते समय, वाहन सीट, ऑफिस में काम करते समय सीधे बैठ कर बैंठें। शरीर की आकृति मुद्रा हमेश समकोण की आकृति में रखें। लगातार देर तक बैठकर काम न करें। सही मुद्रा में बैठने से मस्तिष्क, शरीर स्वस्थ रहता है। और साथ में व्यक्तित्व परर्सनालिटी लुक दिखता है। Lower Back Pain के पीछे काफी हद तक उठना, बैठना, शारीरिक मुद्रा भी एक कारण माना जाता है।

Previous
Next Post »