Home / Hepatitis - Jaundice Treatment / पीलिया रोकथाम Hepatitis Prevention Tips in Hindi

पीलिया रोकथाम Hepatitis Prevention Tips in Hindi

पीलिया रोग में नही खाये जाने वाले खाद्यपदार्थ / Jaundice Avoid Food, Foods To Avoid During Jaundice / Hepatitis Prevention Tips in Hindi 

Prevention Hepatitis : पीलिया लक्षण में कुछ खास तरीके और  अन्हेल्दी खाद्यपदार्थों का सेवन पूरी तरह से बंद कर दें। अन्हेल्दी चीजें पीलिया रोग को अधिक घातक बना सकती है। पीलिया रोग में चिकित्सक द्धारा सुझाव अनुसार डाईट लें।

प्रोटीन – वसा / Low Protein Diet
पीलिया बीमारी में अंडा, मीट, मछली वसायुक्त चीजें पूर्ण रूप से बंद कर दें। ज्यादा प्रोटीन वासायुक्त खाद्यपदार्थ और नाॅनवेज आदि सेवन पीलिया ग्रसित व्यक्ति के लिए घातक हो सकते हैं। सात्विक हेल्दी भोजन करें।

सोड़ा पेय पदार्थ / Soda Drinks
सोड़ा पेय, ठंड़ा, शराब, बीयर हर तरह के सोड़ा Unhealthy Drinks पेय पदार्थ पीलिया रोग में सेवन करना घातक होते हैं। सोडा पेय के वजाय ताजे फलों का रस, सूप आदि तरह पदार्थ लें। कैमिक्लयुक्त फ्लेवर टेस्ट वाली चीजों से पूरी तरह से परहेज करें।

Hepatitis-Prevention-Tips-in-Hindi, Jaundice-Avoid-Food

बंद डिब्बों और पैक्ट फूड / Packed Foods
बन्द डिब्बों, प्लास्टिक पैक्ट खाद्यपदार्थ सेवन से बचें। पैक्ट सील बन्द खाद्य सामग्री सेवन शरीर में पीलिया संक्रमण को तेजी से फैलाती है। सील बन्द खाद्यपदार्थों को सुरक्षित करने के लिए रसायनों का उपयोग किया जाता है। पीलिया में हर तरह के बन्द डिब्बों, पैक्टी सील बन्द सामग्री खाद्यपदार्थों के सेवन से बचें।

बैक्टीरिया, दूषित पेय / Contaminated Water, Drinks 
दूध, पानी को हमेशा उबाल कर पीयें। दूध पानी उबालकर पीने से पेय पदार्थ से बैक्टीरियां कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। बैक्टीरिया मुक्त पानी तरल पेय पीयें।

हनहेल्दी फूडस / Unhealthy Foods
तली भुनी चीजे, फास्ट फूडस, जंक फूड, बाहर का खाना पूरी तरह से बंद कर दें। हनहेल्दी खाना लीवर, पाचन के लिए घातक है। जोकि पीलिया जो बढ़ावा देता है।

चटपटा मसालेदार / Spicy Foods
पीलिया रोग में गर्म मसाले, तीखा, चटपटे पकवान खाना पूरी तरह से बंद कर दें। मसालेदार चटपटा खाद्यपदार्थ पीलिया में लीवर को ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं।

नाॅनवेज / Non Veg Foods
पीलिया रोग में मीट, चिकन नाॅनवेज खाने से परहेज करें। नाॅनवेज पीलिया में लीवर, पाचन, किड़नी पर दुष्प्रभाव डाल सकता है। सात्विक शुद्ध शाकहारी पौष्टिक भोजन करें।

चावल आलू / Rice, Potato 
पीलिया में चावल, आलू पकवान खाने से बचें। चावल आलू पीलिया रोगी के लिए घातक हो सकता है। फाइबर युक्त आटा रोटी, मूंगदाल जैसे रिच फूड्स डाईट में शामिल करें।

लाईट भोजन / Undigested Food
हमेशा लाईट खाना यानिकि जल्दी पाचन में आने वाली भोज्य सामग्री लें। सख्त खाने से बचें। पीलिया में तरल पदार्थ, जल्दी पचने वाले खाद्यपदार्थ सेवन करें। सख्त देर से पाचन करने वाली चीजों के सेवन से बचें।

अधिक वर्कआउट क्षमता से बचें / Strength Training Frequency
पीलिया रोग में विस्तर पर आराम करें। ज्यादा चलने फिरने, वजन उठाने, वर्क करने से बचें। पीलिया रोग के दौरान लीवर और शरीर अंग नाजुक स्थिति में होते हैं। पीलिया रोग में वर्कआउट शरीर अंगों को कमजोर विकृत कर सकता है। साधारण योगा असान भी चिकित्सक परामर्श से करें।

पीलिया से बचने के लिए कारगर उपाय / Jaundice Disease Prevention, Prevention of Jaundice, Jaundice Relief, Piliya , Jaundice Safety Tips

1. शुद्ध पानी पीयें।
2. पानी उबाल कर या फिर फिल्टर पानी पीयें।
3. दूषित वायु, दुर्गंध से बचें।
4 अपने आस-पास स्वच्छ रखें।
5. नाखूनों में मैल गन्दगी जमने से रोकें।
6. समय-सयम पर हाथों पैरों के नाखूनों का साफ सफाई करें, और नाखून काटें।
7. पानी टंकी में समय पर क्लोरीन गोलियां डालें। पानी को दूषित होने से बचायें।
8 ताज भोजन करें। बासी भोजन सेवन से बचें।
9 सात्विक पौष्टिक भोजन लें।
10. समय पर डाॅक्टर, स्वास्थ्य विभाग द्धार जांच सुझाव से बच्चों को हेपेटाइटिस टीके लगवायें। हेपेटाइटिस टीके बदलते वातावरण में कीटाणुओं, विषाणुओं के संक्रमण से बचाने में सहायक है।
11. कटे, फटे, सड़े फलों, सब्जियों के सेवन से बचें।
12. भोजन को ढ़क कर रखें। भोजन को धूल-कण, मक्खियों, दूषित होने से बचा कर रखें।  
13. फलों सब्जियों 5-7 मिनट पानी में डुबों कर रखें। फिर साफ धोकर खायें। ताजे फलों का जूस पीयें।
14. बाजार में मौजूद फ्लेवर जूस पीने से बचें।
15. मक्खी, कीट, जीव अपने आस-पास पनपने नहीं दें। समय≤ पर कीटनाशक छिड़काव करवायें।
16. पीलिया मरीज का विस्तर, तोलिया, साबुन, कपड़े अलग कर दें। विस्तर, कपड़ों, वस्तुओं के बीच कूपर रखें।
17. नहाने में गर्म पानी का इस्तेमाल करें। पानी में कीटाणु रोधक बूदें (ड्राॅप) डालें। फिर पानी इस्तेमाल करें।
18. खाने के सही तौर तरीके नियम अपनायें। भोजन सही तरीके से करें।
19. कैमिक्ल गंध, दुर्गंध से बचें।
20. आंख, नाखून, पेशाब में पीलापन आने पर तुरन्त डाॅक्टर से सम्पर्क करें।
21. साल छः महीने में हेल्थ चेकअप करवायें।

तेजपत्ता उपयोग और फायदे…more
शरीर के बारे आश्चर्यजनक तथ्य…more
बायोप्सी की जरूरत कब होती है ? …more

About About Writer

हैलो फ्रैंड्स ❤ स्वास्थ्यज्ञान डाॅट काॅम का प्रयास पाठकों के लिए स्वास्थ्य, साइंटिफिक आर्युवेदा पद्धति, जीवन शैली, सौन्दर्य और दैनिक - दिनचर्य जैसे विषयों का विश्लेषण एवं समीक्षा कर ज्ञानवर्धक लेख लिखने में है। स्वास्थ्यज्ञान बेवसाइट मुख्य उदेश्य विभिन्न लेखों के माध्यम से पाठकों के ज्ञान में बढ़ोत्तरी और ज्ञान जागृत कराना मात्र है। ❤